Jaundice in New Born Baby.

नवजात शिशुओ में पीलिया होना बहुतायत से पाया जाता है लगभग 70-80% नवजात शिशुओ में पीलिया 24 घंटे से 7 दिन के बीच में पीलिया के लक्षण दिखाई देने लगते हैं. जब शिशु जन्म लेता है तो उसके शरीर में रेड सेल्स की मात्रा बहुत अधिक होती है और जब यह रेड ब्लड सेल्स टूटने लगते हैं तो इनके टूटने से खून में billurubin की मात्रा बढ़ने लगती है जिसका रंग पीला होता है और इसी कारण बच्चें की त्वचा का रंग पीला दिखाई देने लगता है, आँखे व नाखून भी पीले दिखाई देने लगते हैं  I लीवर की अपरिपक्व्ता के कारण यह billurubin गुर्दों एवं यकृत द्वारा साफ़ नहीं हो पाता है अतः खून में billurubin बढ़ जाता है और खून का रंग पीला होने के कारण उपरोक्त लक्षण दिखाई देने लगते हैं I सामान्यतः बच्चो में पीलिया होना स्वाभाविक कारण है , फिर भी यह रोग ना बढ़े के लिए सावधानी बरतना ज़रूरी है I इसके लिए बच्चे को प्रातः काल की सुनहरी धूप लाभदायक होती है I तेज़ धूप में बच्चे को नहीं रखना चाहिए I

कुछ वर्ष पहले जाँन हापकिंस  विश्वविद्यालय में सिद्ध किया था की billurubin एक शकित्शाली ओक्सिडेंट है यह बच्चो की कोशिकाओं को क्षति से बचाता है इसलिए पीलिया कोशिकाओ के नुकसान के विरुद्ध एक रोध की तरह कार्य कर सकता है लेकिन पीलिया के लिए उचित देखभाल की जानी चाहिए I

क्यूंकि जाँन हापकिंस  विश्वविद्यालय ने सिद्ध किया कि यह billurubin एक शक्तिशाली ओक्सिडेंट है, को शांत करने के लिए Savliv Drops अत्यंत प्रभावी होनी चाहिए क्यूंकि Savliv एक एंटी-ओक्सिडेंट औषधि है जिसमे फिनोलिक कंपाउंड, टेनिन, फ्लोवोंस, विटामिन सी और विटामिन ई, एंटी-ओक्सिदेंट्स तत्व हैं इसी के साथ ही हाइड्रोजन पेरोक्साइड और नाइट्रिक एसिड दोनों के एक-एक ऑक्सीजन फ्री रेडिकिल हैं जो कि billurubin की ओक्सिडेंट शक्ति को शांत कर लाभ पहुंचा सकता है, Savliv Drops को काफी नवजात शिशुओ को आधी बूँद देकर देखा गया कि नवजात शिशुओ को तुरंत लाभ हुआ और उनका billurubin लेवल सामान्य हुआ I

SAVLIV’ DROPS पर चले अनुसन्धान में पाया गया कि SAVLIV DROPS एक निरापद औषधि है, यानि कि जिसका कोई भी साइड इफ़ेक्ट नहीं है I

आधी बूँद की मात्रा करने के लिए दो चम्मच पानी में SAVLIV DROPS की एक बूँद मिलानी चाहिए और उसमे से एक चम्मच बच्चे को देनी चाहिए और एक चम्मच शिशु की माँ को दे देनी चाहिए I

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *