Beginning of Harshul Ayur Pharma

हर्षुल आयुर फार्मा ने दिसम्बर 2007 में अपनी वेबसाइट  www.harshulayurpharma.com प्रसारित की जिसको देखकर डॉ. सरवन बाबू चिदंबरम प्रभावित हुए और उन्होंने सन 2009 में  ईमेल के माध्यम से savliv drops पर कार्य करने की इच्छा प्रकट की. उनका मेल मिलने के पश्चात मै विमल कुमार और मेरे पुत्र शिवम् अगरवाल चेन्नई जाकर डॉ. सरवन बाबू से मिले और savliv drops पर अनुसंधान कार्य करने के लिए सहमति हुई और सरवन बाबू ने एक प्रोजेक्ट बनाकर सरकारी सहायता के लिए Department of Science & Technology भारत सरकार दिल्ली के समक्ष प्रस्तुत किया. जिसको विमल कुमार की चिकित्सीय योग्यता की कोई डिग्री ना होने के कारण Department of Science & Technology की कमिटी ने अस्वीकृत कर दिया जिसको अगली मीटिंग के लिए डॉ. सरवन बाबू ने जो की डिपार्टमेंट  टॉक्सिकोलॉजी, रामचंद्र यूनिवर्सिटी के हेड हैं ने कमिटी के समक्ष  पुनः प्रोजेक्ट दिया जिसको कमिटी ने पुनः अस्वीकृत कर दिया.

अब सारी आशा धूमल हो गई थी क्यूंकि अनुसंधान पर आने वाला खर्चा हर्षुल आयुर फार्मा अकेले वेहन करने में असमर्थ था और सरकारी सहायता के लिए प्रोजेक्ट स्वीकृत नहीं हो रहा था इसी मध्य एक घटना घटी कि एक पेट (कुत्ते का पिल्ला) संस्थान में कार्यरत डॉ. सरवन बाबू के सहयोगी वेटनरी चिकित्सक एवं अनुसन्धान कर्ता के पास अत्यंत गंभीर हालत में हेपेटिक कोमा की स्थिति में आया. डॉ. वेंकटेश के पास savliv drops का सैंपल रखा था तो उन्होंने उसी सैंपल में से एक खुराक उस पिल्लै को दे दी और उनके आश्चर्य का ठिकाना ना रहा जब वह पिल्ला 15 मिनट बाद कोमा से बाहर आगया और तीन माह तक उसका इलाज किया तो वह पूर्णतयः स्वस्थ हो गया उक्त घटना को Department of Science & Technology के साइंटिस्ट जी. डॉ. समाथानम को अवगत कराई तो वह प्रभावित हुए बिना नहीं रह सके.

अगली मीटिंग के लिए मुझे साक्षात्कार के लिए तेजपुर यूनिवर्सिटी में बुलाया गया जहां पर Department of Science & Technology की सहायता स्वीकृत करने वाली कमिटी के समक्ष मै प्रस्तुत हुआ और कमिटी मेरे लीवर से सम्बंधित साधारण ज्ञान देखकर काफी प्रभावित हुई और इस प्रोजेक्ट को स्वीकृति दी. 19 जुलाई 2012 को इस प्रोजेक्ट पर कार्य प्रारंभ हुआ और 11 फरवरी 2016 को यह प्रोजेक्ट सम्पूर्ण होने पर DST की मीटिंग में संतोष ज़ाहिर किया गया और कार्यवाही में ख़ुशी ज़ाहिर की गई कि savliv drops का कोई भी साइड इफ़ेक्ट नहीं है.

मीटिंग में savliv drops से सम्बंधित मिनट नीचे दिए गए हैं.img359

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *